in ,

मच्छर पुराण

Reading time: 6 min

Hindi kahaniya

आर्ष अग्रवाल ”द्रष्टा”

यूँ तो दुनिया में अनेक प्रकार के जीव-जन्तु, पशु-पक्षी एवं कीङे-मकोङे पाए जाते हैं। उदाहरण के लिए शेर, खरगोश, बाज, चिङिया, चीटीं, मकङी एवं  मच्छर। उपर्युक्त में से एक प्राणी अधिकांशत: हर जगह पाया जाता है और वो है मच्छर। मच्छर लगभग सभी जगह हैं इसलिए इन्हें विश्वविजेता कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी। ये प्राणी मुझे व्यक्तिगत रुप से बहुत प्रिय है। इसके पास एक अप्रतिम सौंदर्य है जो बाग-बगीचों के फूलों में नहीं है, एक चित्तहरण संगीत है जो किसी भी वाद्ययंत्रों में से नहीं आ सकती। इनका स्वभाव बहुत ही चंचल और तेजस्वी है। इनके व्यक्तित्व में अपार सौंदर्य एवं मनमोहक आभा है।

इनके इस बालस्वरुप, लङक्कपन से भरी क्रीङाओं, कलाबाजियों और खासकर इनके वायलिन जैसे संगीत को सुनकर कोई भी इनका दीवाना हो जाए। कान के पास आकर जो ये वायलिन बजाते हैं अहाआहाहाह… क्या मधुर ध्वनि होती है। जादू होता है जनाब एक बार सुन लीजिए बस, पर हमलोग तो तुरंत मारने पे उतारू हो जाते हैं। (कला को इज्जत देनी चाहिए)

आप किसी से भी पूछिए कि घर में कितने सदस्य हैं तो जवाब मिलता है पाँच, सात वगैरह वगैरह। परन्तु ये आँकङे सही नहीं हैं, सदस्यों की संख्या इकाई में तो हो ही नहीं सकती सैकङों में आती है और हर दिन बदलती रहती है। गिनती करते समय हम अपने अभिन्न अंग हर सुख-दुख में काटने वाला, किसी भी बात का बुरा ना मानने वाला, निष्पक्ष भाव से घर में रहने वाला.. सिकन्दर मच्छर को हमलोग भूल जाते हैं।

Mosquitos

बहुत हो गयी साले मच्छर की बङाई अब इन हरामखोरों के कारनामों का उल्लेख किया जाए।

हर प्राणियों का अपना अपना काम निर्धारित है। जैसे मकङी का जाला बुनना, मधुमक्खी का शहद बनाना.. इत्यादि इत्यादि पर साला ये मच्छर किस लिए है.. खून चूसने के लिए तो नहीं है शायद। मच्छर को किसलिए बनाया गया है इसका उल्लेख किसी भी शास्त्र या पुराण में नहीं है।

इससे मन में संदेह उत्तपन्न होता कि क्या प्राचीन समय में मच्छर नहीं थे? बहुत सारे मुनि, साधु जंगल में इतनी गहरी तपस्या करते थे कि भंग करने के लिए स्वर्ग से अप्सराएँ आती थी ये काम तो साला एक दो टके का मच्छर भी कर सकता था। आज तो चैन से संङास भी नहीं कर सकते। उपर्युक्त चर्चा से स्पष्ट होता है कि मच्छर किसी भी पौराणिक कथा का किरदार नहीं है और ना ही किसी भगवान का सवारी है(बङे आश्चर्य की बात कि किसी ने भी ऐसे प्रेरणादायक जीव को अपनी सवारी नहीं बनाया, लगता है इसी लिए बौखलाए हैं साले)। मतलब ये सब साले कुछ ही साल पुराने हैं.. लग रहा है अंग्रेजो के बाद बने है। जरुर ये किसी मकसद के लिए बनाए गए है। कौन है साले ये..

कहीं ये कोई अंङरकवर एजेंट तो नहीं.. या फिर ये किसी राजनीतिक पार्टी से सम्बन्धित हो सकते हैं.. कि जो विरोधी दल का है सिर्फ उसके घर इनकी छाया पङती है। ऊपर लगाए गए तमाम कयासों में से कोई सा भी संभव मालूम नहीं पङता बहुत सोच-विचार के बाद संभावना नजर आती है कि ये साले ब्लङ बैंक के एजेंट हो सकते हैं। हर मोहल्ले के ब्लङ बैंक में कमीशन सेट है इनका। लोगों का खून चूस कर बैंक में बेच आते हैं बदले में हमें क्या मिलता है खुजली, गोल लाल दाना।

सारे मनुष्य जाति को इसके खिलाफ एकजुट होना पङेगा, एक आंदोलन, एक मुहिम छेङना होगा पूरे देश में, सरकार को इसके लिए कानून बनाना चाहिए कि जब मच्छर खून बेचकर आता है तो कमाई का कुछ हिस्सा पीङित को भी मिलना चाहिए।

वैसे अगर ध्यान से देखा जाए तो आजकल के मच्छर कुछ ज्यादा जानदार और ताकतवर हो गए हैं, नए पीढी के है जिम वगैरह जाते होगें साले सब। बाजार में एक Mosquito  रैकट आता है उससे करंट लग के गिरने के दो मिनट बाद दुबारा साले सब हरामजादे जिंदा हो जाते हैं इनके पास भी लग रहा है कि अमृत कलश है विभीषण की कमी है वही है जो बता सकता है।

इन सालों के अन्दर संस्कार नाम कोई भी चीज नहीं है। इस सम्बन्ध में मैंने इनके माँ-बाप से बात करनी चाही पर उन चूतियों में भी संस्कार नहीं था, अत कोई भी बात करने को राजी ना हुआ। मैंने सालों को वहीं मार गिराया।

रहन सहन-

hindi kahaniya

हर मोहल्ले मच्छरों की एक छावनी, एक आफिस होती है। जहाँ पर इनको ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है। आफिस कहीं भी हो सकती है छत पर, बरामदे में या फिर संङास में। इन सारी व्यवस्थाओं का खर्चा खून बेचने से मिले कमीशन से चलता है। ट्रेनिंग में इनको सिखाया जाता है कि कैसे, कब काटना चाहिए, जो व्यक्ति किसी जरूरी कृत्य में संलग्न हो उसको सबसे पहले काटना रहता है। इनकी एक पाठ्य पुस्तक है- “Best Places To Bite”  इसके लेखक हैं सर जार्ज मच्छमास, बेस्टसेलर बुक है। यहीं पर ये जिम ज्वाइन करते हैं, जिम में ये अपने पंखों, टाँगों, हाथों और विशेषकर के अपनी सुई जैसी घटिया सूँङ को धार देते हैं मजबूत करते हैं। इसके बाद इनकी छोटी-छोटी सेना बनायी जाती है और बताया जाता है कि कब, कहाँ, किसके घर पर हमला करना है, हरएक मच्छर के पास एक वायरलेस माइक होता है जिससे वो अपने बास से कनेक्टेङ रहता है। सेना के कूच करने से पहले एक चींटी की बलि दी जाती है। फिर ये निकलते हैं और अपने गंदे नंगे पैर से हमारे ऊपर बैठते हैं, त्वचा को मुलायम बनाने के लिए थोङा थूकते हैं, अब आहिस्ते से अपनी नुकीली, चमचमाती सूँङ धसाते हैं…..सिप-सिप-सिप।

अब जब हम जवाबी कारवाई के लिए इनको रैकेट से मारना चालू करते हैं कुछ तो तुरंत शहीद हो जाते हैं, कुछ बेहोश हो जाते हैं और एक-दो मिनट होश आ जाता है। जैसे ही इनकी संख्या कम होने लगती है कोई एक मच्छर वायरलेस पर खबर भेजता होगा-“हमलोग मारे जा रहें हैं आज साले सब दो-दो रैकेट से मार रहे हैं या तो और योद्धा भेजिए या हमलोग वापिस आ रहे हैं। ओवर !!”। मच्छरों को मारने का एक बहुत पुराना औजार है “Mortein” पहले इससे मच्छर भागते थे मरते नहीं थे, मरते ये कभी भी नहीं है। अब तो ये भागते भी नहीं हैं साले, हरामजादे अब मास्क पहनकर आते हैं। एक है- “All Out”। All Out वाले विज्ञापन में जो मच्छर कुछ बोलता हुआ मरता है वो साला भी चूतिया बनाता है। साजिश है सालों की बहुत बङी, सब मिल के चूतिया बनाते हैं। आल-आऊट की सुंगध इतनी अच्छी है उससे भला कौन मरेगा। उस समय सारे मच्छर कमरे की सीलिंग पर या पंखे के ब्लेङ पर आराम करते हैं दरअसल मच्छरों की वहाँ भी सेटिंग है, कमीशन फिट है। जितना भी आल-आऊट बिकेगा उसका .23653% इनको मिलता है। इन पैसों से ये अपने आप को और एङवांस् करते हैं(ङिजिटल इंङिया के अन्तर्गत), नए-नए उपकरण लाते हैं। कुछ विशेष सूत्रों से पता चला है कि आने वाले दिनों में ये करंट प्रुफ जैकेट पहनकर आने वाले हैं।

The end of mosquitos hindi kahaniya

सच तो यह है कि मच्छर को ना तो भगाया जा सकता है, ना ही मारा सकता है क्योंकि वो अजर-अमर है वो है वो रहेगा, कभी मिटेगा नहीं। हमलोग को उनके सामने आत्मसमर्पण करना ही होगा, तभी वो मनुष्य जाति को माफ करेंगे। इसके लिए या तो मच्छर से कटवा लें जबतक वो खुद खून पीकर ना उङ जाए उसको खून चूसने दें, इस बीच कोई भी धृष्टता ना करें। या एक और उपाय है कि ब्लङ बैंक से सभी ब्लङ ग्रुप का खून ले आएँ, और कमरे के बीच में कटोरी में ला कर रख दें, हर ब्लङ ग्रुप का लेबल चिपका दें।(खून में जहर मिलाने की जुर्रत ना करें खामियाजा भुगतना पङ सकता है)। कभी किन्हीं विशेष मौंको पर बादाम या काजू को घिसकर खून में मिला दिया करें। तीन महीने में एक बार मच्छरों के लिए यज्ञ कराएँ, ब्राह्मण की जगह 1953 मच्छरों को आंमत्रित करें, उनको सम्मानित करें ऊँचे स्थान पर बैठाएँ और स्वयं उनके कमलरूपी चरणों के पास बैठें। दक्षिणा के जगह हर मच्छर को प्लास्टिक के पाउच में हर ब्लङ ग्रुप का खून दे दें, और फिर पैर छूकर आशीर्वाद प्राप्त करें। उपर्युक्त उपाय करने से संभावना है कि मच्छर जैसे शक्तिशाली प्राणी में दया का आर्विभाव हो और वो हमें माफ कर सकें।

Written by Sumit Paul

Self-motivated Blogger. Very much fascinated by tech stuffs especially softwares.

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

Loading…

0
Year Guest name Country Note 1950 President Sukarno[12] Indonesia 1951 King Tribhuvan Bir Bikram Shah[13] Nepal 1952 No Invitation 1953 No Invitation 1954 King Jigme Dorji Wangchuck[14] Bhutan 1955 Governor General Malik Ghulam Muhammad[15] Pakistan First guest for parade at Rajpath[16] 1956 Chancellor of the Exchequer R. A. Butler United Kingdom Note[6] Two guests[17] Chief Justice Kōtarō Tanaka Japan 1957 Minister of Defence Georgy Zhukov[18] Soviet Union 1958 Marshall Ye Jianying[19] China 1959 Duke of Edinburgh Prince Philip[20][21][22] United Kingdom 2nd invitation 1960 Chairman Kliment Voroshilov[23] Soviet Union 2nd invitation 1961 Queen Elizabeth II[24] United Kingdom 3rd invitation, Note[7] 1962 Prime Minister Viggo Kampmann[25] Denmark Note[8] 1963 King Norodom Sihanouk[26] Cambodia 1964 Chief of Defence Staff Lord Louis Mountbatten[27] United Kingdom 4th invitation, Note[9] 1965 Food and Agriculture Minister Rana Abdul Hamid Pakistan 2nd invitation 1966 No invitation No invitation Note[10] 1967 King Mohammed Zahir Shah[28] Afghanistan Note[11] 1968 Chairman Alexei Kosygin Soviet Union 3rd invitation Two guests[29] President Josip Broz Tito Yugoslavia 1969 Prime Minister Todor Zhivkov[30] Bulgaria 1970 King of the Belgians Baudouin[31][32] Belgium Note[12] 1971 President Julius Nyerere[33] Tanzania 1972 Prime Minister Seewoosagur Ramgoolam[34] Mauritius 1973 President Mobutu Sese Seko[35] Zaire 1974 President Josip Broz Tito Yugoslavia 2nd invitation Two guests[36] Prime Minister Sirimavo Bandaranaike Sri Lanka 1975 President Kenneth Kaunda[37] Zambia 1976 Prime Minister Jacques Chirac[38] France 1977 First Secretary Edward Gierek[39] Poland 1978 President Patrick Hillery[40] Ireland 1979 Prime Minister Malcolm Fraser[41] Australia 1980 President Valéry Giscard d'Estaing France 2nd invitation 1981 President Jose Lopez Portillo[42] Mexico 1982 King Juan Carlos I[43] Spain 1983 President Shehu Shagari[44] Nigeria 1984 King Jigme Singye Wangchuck[45] Bhutan 2nd invitation 1985 President Raúl Alfonsín[46] Argentina 1986 Prime Minister Andreas Papandreou[47] Greece 1987 President Alan Garcia[48] Peru 1988 President J. R. Jayewardene[49] Sri Lanka 2nd invitation 1989 General Secretary Nguyen Van Linh[50] Vietnam 1990 Prime Minister Anerood Jugnauth[51] Mauritius 2nd invitation 1991 President Maumoon Abdul Gayoom[52] Maldives 1992 President Mário Soares[52] Portugal 1993 Prime Minister John Major[52] United Kingdom 5th invitation 1994 Prime Minister Goh Chok Tong[52] Singapore 1995 President Nelson Mandela[53] South Africa 1996 President Fernando Henrique Cardoso[52] Brazil 1997 Prime Minister Basdeo Panday[52] Trinidad and Tobago 1998 President Jacques Chirac[52] France 3rd invitation 1999 King Birendra Bir Bikram Shah Dev[52] Nepal 2nd invitation 2000 President Olusegun Obasanjo[52] Nigeria 2nd invitation 2001 President Abdelaziz Bouteflika[52] Algeria 2002 President Cassam Uteem[52] Mauritius 3rd invitation 2003 President Mohammed Khatami[52] Iran 2004 President Luiz Inacio Lula da Silva[52] Brazil 2nd invitation 2005 King Jigme Singye Wangchuck[52] Bhutan 3rd invitation 2006 King Abdullah bin Abdulaziz al-Saud[52] Saudi Arabia 2007 President Vladimir Putin[52] Russia 4th invitation 2008 President Nicolas Sarkozy[52] France 4th invitation 2009 President Nursultan Nazarbayev[52] Kazakhstan 2010 President Lee Myung Bak[54] South Korea 2011 President Susilo Bambang Yudhoyono[55][56] Indonesia 2nd invitation 2012 Prime Minister Yingluck Shinawatra[57] Thailand 2013 King Jigme Khesar Namgyel Wangchuck[58] Bhutan 4th invitation 2014 Prime Minister Shinzo Abe[59] Japan 2nd invitation 2015 President Barack Obama[60] United States 2016 President François Hollande France 5th invitation[61] 2017 Crown Prince Mohammed bin Zayed Al Nahyan[62] United Arab Emirates 2018 Sultan Hassanal Bolkiah Brunei Ten guests (Heads of ASEAN states)[63] Prime Minister Hun Sen Cambodia 2nd invitation President Joko Widodo Indonesia 3rd invitation Prime Minister Thongloun Sisoulith Laos Prime Minister Najib Razak Malaysia State Counsellor Daw Aung San Suu Kyi Myanmar President Rodrigo Roa Duterte Philippines Prime Minister Lee Hsien Loong Singapore 2nd invitation Prime Minister Prayuth Chan-ocha Thailand 2nd invitation Prime Minister Nguyễn Xuân Phúc Vietnam 2nd invitation 2019 President Cyril Ramaphosa[64][

26 January, Republic Day 2019

Innovation, infoclusters.com

Innovation – Making a Change in world