in

मंदिर वहीं बनेगा | सुप्रीम कोर्ट का निर्णय

ram mandir
Reading time: 2 min

बहुत समय से चली आ रहीं अयोध्या फैसले का आज अंतिम निर्णय सुप्रीम कोर्ट ने दिया|९ साल पहले अल्लाहाबाद कोर्ट नई जो फैसला दिया था उसके तहत विवादित जमीन को ३ पार्टीज के बीच मे बाटा गया था | आज के फैसले के बाद अब राम मंदिर अयोध्या में ही बनेगा | सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत ५ एकर्स जमीन मुसलमानो पक्ष को दिया जायेगा | केंद्र सरकार द्वारा एक ट्रस्ट बनाई जाएगी जो मंदिर निर्माण कार्य का विवरण ३ महीने के अंदर पेश करेगी |जब तक ट्रस्ट नहीं बनता है तब तक जमीन की स्वामित्व केंद्र के पास रहेगी | सुप्रीम कोर्ट ने निर्मोही अखाडा समात्तित्व को खारिज कर दिया|

सुप्रीम कोर्ट के फैसले की प्रमुख बातें

  • चीफ जस्टिस ने कहा- हम सर्वसम्मति से फैसला सुना रहे हैं। इस अदालत को धर्म और श्रद्धालुओं की आस्था को स्वीकार करना चाहिए। अदालत को संतुलन बनाए रखना चाहिए।
  • चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा- मीर बाकी ने बाबरी मस्जिद बनवाई। धर्मशास्त्र में प्रवेश करना अदालत के लिए उचित नहीं होगा।
  • विवादित जमीन रेवेन्यू रिकॉर्ड में सरकारी जमीन के तौर पर चिह्नित थी।
  • राम जन्मभूमि स्थान न्यायिक व्यक्ति नहीं है, जबकि भगवान राम न्यायिक व्यक्ति हो सकते हैं।
  • विवादित ढांचा इस्लामिक मूल का ढांचा नहीं था। बाबरी मस्जिद खाली जमीन पर नहीं बनाई गई थी। मस्जिद के नीचे जो ढांचा था, वह इस्लामिक ढांचा नहीं था।
  • ढहाए गए ढांचे के नीचे एक मंदिर था, इस तथ्य की पुष्टि आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (एएसआई) कर चुका है। पुरातात्विक प्रमाणों को महज एक ओपिनियन करार दे देना एएसआई का अपमान होगा। हालांकि, एएसआई ने यह तथ्य स्थापित नहीं किया कि मंदिर को गिराकर मस्जिद बनाई गई।
  • हिंदू इस स्थान को भगवान राम का जन्मस्थान मानते हैं, यहां तक कि मुस्लिम भी विवादित जगह के बारे में यही कहते हैं। प्राचीन यात्रियों द्वारा लिखी किताबें और प्राचीन ग्रंथ इस बात को दर्शाते हैं कि अयोध्या भगवान राम की जन्मभूमि रही है। ऐतिहासिक उद्धहरणों से भी संकेत मिलते हैं कि हिंदुओं की आस्था में अयोध्या भगवान राम की जन्मभूमि रही है।
  • ढहाया गया ढांचा ही भगवान राम का जन्मस्थान है, हिंदुओं की यह आस्था निर्विवादित है। हालांकि, मालिकाना हक को धर्म, आस्था के आधार पर स्थापित नहीं किया जा सकता। ये किसी विवाद पर निर्णय करने के संकेत हो सकते हैं।
  • यह सबूत मिले हैं कि राम चबूतरा और सीता रसोई पर हिंदू अंग्रेजों के जमाने से पहले भी पूजा करते थे। रिकॉर्ड में दर्ज साक्ष्य बताते हैं कि विवादित जमीन का बाहरी हिस्सा हिंदुओं के अधीन था।
  • 1946 के फैजाबाद कोर्ट के आदेश को चुनौती देती शिया वक्फ बोर्ड की विशेष अनुमति याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज किया। शिया वक्फ बोर्ड का दावा विवादित ढांचे पर था। इसी को खारिज किया गया है।
  • सुप्रीम कोर्ट ने निर्मोही अखाड़े का दावा खारिज किया। निर्मोही अखाड़े ने जन्मभूमि के प्रबंधन का अधिकार मांगा था।

  दैनिक भास्कर

यह फैसला १८८५ से रुका हुई थी जो की आज मंदिर बनाने के फैसले से ख़तम हुई है |

Written by Sumit Paul

Self-motivated Blogger. Very much fascinated by tech stuffs especially softwares.

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

Loading…

0
ram mandir

Mandir Vhi Banega | Final Decision of Supreme Court on Ayodhya Verdict

ram mandir

Ayodhya Verdict Judgement of 1000 Pages